Sunday, April 17, 2011






हम आँखों से शुभ ही सुनें और नेत्रों से भी शुभ ही देखें, अपने मजबूत अंगों से, हे प्रभो! आपकी स्तुति करते  हुवे हम शरीर से मर्यादा के अनुकूल हितकारी एवं कल्याणकारी आयु को भली भांति प्राप्त हों |
--ऋग्वेद

महात्मा हंसराज     महात्मा हंस राज जी का जन्म १९ अप्रैल १८६४ को पंजाब प्रान्त में होशियारपुर  जिले के बजवाडा नामक स्थान पर हुआ था I इनके पिता श्री चुन्नी लाल जी साधारण परिवार से सम्बन्ध रखते थेI इनका बचपन अभावों में बिता था, ये बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि के थेI मात्र १२ वर्ष की उम्र में इनके पिता का देहांत हो गया I सन १८८५ में जब वो लाहौर में अपने बड़े भाई मुल्क राज के यहाँ रह के शिक्षा प्राप्त कर रहे थे, उसी समय लाहौर में महर्षि दयानंद जी के सत्संग में जाने का अवसर मिला I महर्षि के इस प्रवचन का युवक हंसराज पर बहुत प्रभाव पड़ा I महर्षि ने इस प्रवचन में मानव जीवन को सफल बनाने के लिए छः बातों का निर्देश दिया था ---
1. विद्या के पठन- पाठन से अपने मन का विकास करना I
२. जीवन में उत्तम स्वाभाव तथा उत्तम शिक्षा का ग्रहण करना चाहिए I
३. सदा सत्य बोलने की कोशिश करनी चाहिए I 
४.  जीवन की समस्त विलासिताओं से दूर रहना चाहिए जिससे की अहंकार न उत्पन्न हो I
५. जितना हो सके संसार का कष्ट दूर करने की कोशिश करनी चाहिए I 
महर्षि के बताये गए इन सिद्धांतों को हंसराज जी ने जीवन भर अनुकरण किया I
समाज सेवक महात्मा हंसराज तब विद्यार्थी ही थे। वे आवश्यक कार्यों से बचा सारा समय मोहल्ले के गरीब तथा अनपढ़ लोगों की चिट्ठी-पत्री पढ़ने और लिखने में ही लगा देते थे। जब परीक्षानिकट आई तो उनकी माता ने कहा- ' क्यों रे , तू सारा दिन दूसरों की ही लिखा-पढ़ी करता रहेगा या कभी अपनी भी पढ़ाई करेगा?' 
इस पर बालक हंसराज बोला- ' मां यदि पढ़ाई-लिखाई का लाभ अकेले ही उठाया तो क्या फायदा। शिक्षा की उपयोगिता तभी है ,जब इससे अधिक से अधिक लोग लाभान्वित हो सकें। '

जब सर्वप्रथम आर्यसमाज संस्था द्वारा बच्चों की शिक्षा के लिए स्कुल कालेज खोले गए तो मुख्य समस्या पैसों की आई I उन्होंने उसी समय निर्णय लिया की वो स्कुल के अवैतनिक प्रधानाचार्य पद ग्रहण के लिए तैयार हैं I इसके लिए उनके  बड़े भाई मूलराज ने भी अनुमति दे दी तथा उनके परिवार के समस्त खर्च वहन करने की जिम्मेद्वारी भी ले ली I
उन्होने २२ वर्ष की आयु में डीएवी स्कूल में प्रधानाचार्य के रूप में अवैतनिक सेवा आरम्भ की जिसे २५ वर्षों तक करते रहे। अगले २५ वर्ष उन्होने समाज सेवा के लिये दिये।
१ जून १८८६ को  आर्यसमाज लाहौर के भवन में डी ए वी स्कुल खोल दिया गया I
१९८९ में इसने कालेज का रूप ले लिया १९९६ तक तो यहाँ इंजीनियरिंग की कक्षाएं भी चलने लगीं I  उन्होंने अपने जैसे ही सैकड़ों सदस्य इस संस्था के साथ जोड़े,जो आजीवन नाम मात्र के वेतन में कम करते रहे I
व्यक्ति यदि खुद आदर्श का प्रतीक बन जाये तो दुसरे लोग जल्दी उससे प्रभावित एवं आकर्षित होते हैं I कालेज के प्रिंसपल होने के वावजूद महात्मा हंसराज एकदम सादे से मकान में अत्यंत सादा जीवन बिताते थे I खद्दर का कुरता -पैजामा तथा बिस्तर के नाम पे लकड़ी का एक तख़्त I सादा जीवन उच्च विचार वाला जीवन था उनका I इसके अलावा देश में अगर कहीं भी अकाल या बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदा आती तो ये अपने साथियों के साथ बढ़ चढ़ के यथा संभव मदद करने की कोशिश करते I
सन् १९२२ में हंसराज जी के कार्यकर्ताओं ने केरल के २५०० से अधिक लोगोंको पुन: हिन्दू धर्म में वापस लाये। ये लोग मोपला विद्रोह में बलात् मुसलमान बना दिये गये थे। विकट परिस्थितियों के बावजूद भी यह कार्य महात्मा हंसराज के नेतृत्व में एक शिविर लगाकर लाला कौशल चन्द और पंडित मस्तान चन्द ने किया।
सन् १८९५ में बीकानेर में आये भीषण अकाल के दौरान दो वर्षों तक बचाव व सहायता का कार्य किया और इसाई मिशनरियों को सेवा के छद्मवेश में पीड़ित जनता का धर्म-परिवर्तन करने से रोका। लाला लाजपत राय इस कार्य में अग्रणी रहे।
जोधपुर के अकाल में लोगों की सहायता - १४००० अनाथ बच्चे आर्य आनाथालयों में पालन-पोषण के लिये लिये गये।
इसी तरह हंसराज जी के नेतृत्व में सन् १९०५ मेंकांगड़ा में, १९३५ में क्वेटा में, सन् १९३४ में बिहारमें पीड़ितों की सहायता की गयी।
७४ साल की उम्र तक सक्रिय रह कर तपस्वी का सा जीवन बिताते हुवे १५ नवम्बर १९३८ को महात्मा हंसराज चिर निंद्रा में सो गए 
लाला हंसराज (महात्मा हंसराज) (१९ अप्रैल, १८६४ - १५ नवम्बर, १९३८) अविभाजित भारत के पंजाब केआर्यसमाज के एक प्रमुख नेता एवं शिक्षाविद थे। पंजाब भर में दयानंद एंग्लो वैदिक विद्यालयों की स्थापना करने के कारण उनकी कीर्ति अमर है। 
वस्तुतः महात्मा हंसराज का चिंतन और दृष्टिकोण आज भी उतना ही सार्थक और प्रासंगिक है  

62 comments:

  1. महात्मा हंसराज जी की जीवनी पढ़ कर मन प्रसन्नता से भर गया --उनके बारे मे जानकारी बहुत लाजबाब रही --उनके आदर्शो को जीवन में उतारना जरूरी है -- एक निहायती साफ सुधरी पोस्ट धन्यवाद --

    ReplyDelete
  2. मदन जी
    आप धन्य हैं और हम सब भी धन्य हैं जो महात्मा हंसराज जी जैसे
    महान आत्मा के बारे में आपके इस सशक्त लेख के माध्यम से जानने को मिला.आप अपने लेखन में मंगल तत्व के साथ साथ रस का भी संचार करते जा रहे हैं.ऋग्वेद से यह उद्धरण मन को बहुत भाया;
    "हम आँखों से शुभ ही सुनें और नेत्रों से भी शुभ ही देखें, अपने मजबूत अंगों से, हे प्रभो! आपकी स्तुति करते हुवे हम शरीर से मर्यादा के अनुकूल हितकारी एवं कल्याणकारी आयु को भली भांति प्राप्त हों |"
    बहुत बहुत आभार आपका.

    ReplyDelete
  3. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें ।
    बेहतरीन आलेख ! आभार....

    ReplyDelete
  4. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें ।
    बेहतरीन आलेख ! आभार..

    ReplyDelete
  5. जिस दिन हमें भगवान के ऊपर विश्वास करनेवाले बहुत सारे स्त्री-पुरुष मिल जायें जो केवल अपना जीवन मनुष्यता की सेवा और पीड़ित मनुष्य की भलाई के सिवाय और कहीं समर्पित कर ही नहीं सकते. उसी दिन से मुक्ति के युग का शुभ आरंभ होगा.

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. आदरणीय मदन शर्मा जी
    बहुत ही बढ़िया आलेख बहुत ही अच्छा लगा पढ़ कर और आपने जो जानकारी उसके लिए आपका धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. मदन जी मेरा नमस्ते स्वीकार कीजिये!
    बहुत ही बढ़िया आलेख बहुत ही अच्छा लगा पढ़ कर
    स्वामी दयानंद जी के बारे में भी बताया होता ज्यादा ठीक होता ।

    April 18, 2011 9:10 AM

    ReplyDelete
  10. महात्मा हंसराज के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा .....पोस्ट कई अर्थपूर्ण बातें समेटे है..... आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए.....

    ReplyDelete
  11. really very informative and memorable post.

    ReplyDelete
  12. really very informative and memorable post.

    ReplyDelete
  13. वस्तुतः महात्मा हंसराज का चिंतन और दृष्टिकोण आज भी उतना ही सार्थक और प्रासंगिक है

    ReplyDelete
  14. महात्मा हंसराज जी के बार पढ कर बहुत अच्छा लगा, आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. आदरणीय मदन शर्मा जी
    बहुत ही बढ़िया आलेख बहुत ही अच्छा लगा पढ़ कर और आपने जो जानकारी उसके लिए आपका धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. आदरणीय मदन शर्मा जी, बहुत ही अच्छा लगा विस्तृत आलेख पढ़ कर. अनुसरण योग्य बातें बताई हैं आपने, सुन्दर प्रस्तुति के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  17. आदरणीय दर्शन कौर जी नमस्ते! आपका यहाँ आने के लिए बहुत धन्यवाद!
    आपके सुझाव सर आँखों पर!! आशा है यूँ ही आप दर्शन देती रहेंगी!
    आपका आभार !!

    ReplyDelete
  18. <आदरणीय राकेश कुमार जी ,
    <प्रभागौतम जी
    <शिवशंकर जी
    <अजय तलवार जी
    <डा .मोनिका शर्मा जी
    <शिरीष रंजन जी
    <सूर्य देवी चतुर्वेदी जी
    <राज भाटिया जी
    <संजय भास्कर जी तथा
    <अरविन्द जांगिड जी
    आपका यहाँ आने के लिए धन्यवाद. आपको मेरे प्रयास की सराहना करने के लिये आभार...
    आपका प्रोत्साहन सदैव आवश्यक है । आशा है आपका मार्गदर्शन यूँ ही निरंतर प्राप्त होता रहेगा ..........

    ReplyDelete
  19. ऐसा लेख प्रस्तुत करने हेतु आपको बहुत बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  20. आदरणीय मदन शर्मा जी
    कुछ अच्छे विचार कई बार हमें प्रेरित करते हैं कुछ अच्छा करने को और आभार इस पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  21. महात्मा हंसराज जी के बार पढ कर बहुत अच्छा लगा, आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. महात्मा हंसराज के बारे में विस्तार से जाना, गर्व है ऐसे व्यक्तित्व पर। आपका आभार इस बेहतरीन आलेख के लिए।

    ReplyDelete
  23. बिलकुल सही प्रस्तुति ! हंसराज जी जैसे महापुरुष , आज - कल सपने हो गए है ! ऐसे महापुरुषों से हमें सिख लेनी चाहिए ! आप के ब्लॉग पर देर से पहुंचा , इसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ ! मेरा ड्यूटी ही ऐसा है ! सभी को पढ़ना चाहता हूँ पर समय नहीं दे पाता ! बहुत - बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  24. महात्मा हंस राज जी पर अत्यंत ज्ञानवर्धक जानकारी...
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  25. महात्मा हंसराज जी जैसे महान आत्मा के बारे में आपके इस सशक्त लेख के माध्यम से बहुत कुछ जानने और समझने को मिला. आपका बहुत - बहुत आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए.....

    ReplyDelete
  26. महात्मा हंसराज जी के बारे में जानकारी मिली...बहुत अच्छा और अर्थपूर्ण आलेख....

    ReplyDelete
  27. <श्री सोनू जी
    <सवाई सिंह राजपूत जी
    <आशा जोगलेकर जी
    <दिव्या जी
    <जी. एन. शा जी
    <डा. सुश्री शरद सिंह जी
    <संध्या शर्मा जी तथा
    <बीना जी
    आपका यहाँ आने के लिए धन्यवाद. आपको मेरे प्रयास की सराहना करने के लिये आभार...
    आपका प्रोत्साहन सदैव आवश्यक है । आशा है आपका मार्गदर्शन यूँ ही निरंतर प्राप्त होता रहेगा ..........

    ReplyDelete
  28. मदन शर्मा जी, नमस्कार....आपके ब्लॉग में आकर अच्छा लगा, आप यूँ ही लिखते रहें, ईश्वर से कामना है, आभार.

    ReplyDelete
  29. प्रेरक पोस्ट ....

    संत हंसराज जी के बारे में जानकारी देने के लिए साधुवाद ....

    महर्षि दयानंद जी तो पारस थे जिनके संपर्क से कितने लोहे कुंदन हो गए |

    ReplyDelete
  30. bahut hi achhe post dale hain aapne , dharmik gyan ka sansar yaha mila aise hi padhwate rahiyega ..............sukriya

    ReplyDelete
  31. mahatma hansraj ji ke baare me jaankar achchha laga ,bahut si nai baate janne ko bhi mili .sundar post .

    ReplyDelete
  32. maine pahli baar suna hai pr padkar achha lga
    bharat bhumi santo se kabhi khali nhi rehi

    ReplyDelete
  33. आपका स्वागत करती सुगना फाऊंडेशन-

    श्री श्री 1008 श्री खेतेश्वर"दाता" के 99 वि जयंती पर विशाल शोभायात्रा में आपका स्वागत सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया करता है गुरुदेव गादीपति श्री 1008 श्री तुलछा राम जी महाराज का स्वागत एवमं शरबत पान रखा है जोकि 5 वि रोड कोहिनूर सिनिमा के आगे होगा इसमें आप सभी पधारे ....सवाई सिंह राजपुरोहित

    आप सब से निवेदन है
    आप सभी भाई बंधुओ से निवेदन है की श्री श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज जयंती कार्यक्रम में आप अधिक से अधिक संख्या में भाग ले ओर रैली को सफल बनावे

    * फाउंडेशन का कार्यक्रम स्थल *
    सुगना फाउंडेशन-मेघालासिया , जोधपुर
    राजाराम जी का मन्दिर के पास, कोहिनूर सिनिमा के आगे,
    पाचवी रोड, जोधपुर(राजस्थान)


    श्री श्री 1008 श्री खेतेश्वर जयंती पर आज निकलेगी भव्य शोभायात्रा
    or
    जयंती पर आज निकलेगी शोभायात्रा


    ******************************************************



    ------ जय खेतेश्वर दाता री सा ------
    ------जय रघुनाथ जी री सा ------

    ReplyDelete
  34. महात्मा हंसराज जी को पढना बहुत अच्छा लगा |
    बहुत - बहुत शुक्रिया |

    ReplyDelete
  35. बहुत ही बढ़िया आलेख बहुत ही अच्छा लगा पढ़ कर .महात्मा हंसराज के बारे में विस्तार से जाना.हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  36. हुत कुछ जानने और समझने को मिला आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए.....

    ReplyDelete
  37. प्रेरक व्यक्तित्व पर प्रकाश डालती सार्थक पोस्ट।

    ReplyDelete
  38. बहुत सुन्दर लेखन ... और ज्ञानवर्धक... पंडित हंसराज जी के बारे में इतनी जानकारी ..सार्थक लेखन...

    ReplyDelete
  39. Madan ji badhai swikare itane achchhe blog ke liye.
    Mahatma hansraj ji ke bare men di gai jankari bahut hi achchhi hai. aabhar.

    ReplyDelete
  40. महात्मा हंसराज के बारे में विस्तार से जाना बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  41. महात्मा हंसराज के बारे में विस्तार से जाना बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  42. मदन जी ! आपने हंसराज जीके बारे में दुर्लभ जानकारी दी
    हम आपका आभार प्रकट करते हैं ..
    यथार्थपरक रचनाके लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  43. मदन जी
    आप धन्य हैं और हम सब भी धन्य हैं जो महात्मा हंसराज जी जैसे
    महान आत्मा के बारे में आपके इस सशक्त लेख के माध्यम से जानने को मिला.

    ReplyDelete
  44. आप सचमुच ज्ञान के सागर से मोती निकाल कर लाए हैं । ज्ञानवर्धन के लिए धन्यवाद और आपकी ये ब्लॉग अनेक लोगों के लिए मार्ग दर्शक बनेगी बहुत गहन अध्ययन और विवेचना के बाद ही ऐसा लेख लिखा जाता है । आपके अगले लेख की प्रतीक्षा रहेगी

    ReplyDelete
  45. बेहतरीन आलेख ! आभार....

    ReplyDelete
  46. Bahut badhiya.Ye jeevni hamein nirantar margdarshan degi...dhanyavaad.

    ReplyDelete
  47. महात्मा हंसराज जी के बारे में जानकार अच्छा लगा ! आप एक बेहतर कार्य कर रहे हैं !आभार आपका !

    ReplyDelete
  48. महात्मा हंसराज जी के बार पढ कर बहुत अच्छा लगा| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  49. आदरणीय भाई मदन जी महात्मा हंसराज जी के बारे में जानना बहुत सुखद लगा आपका आभार |

    ReplyDelete
  50. महात्मा हंसराज की जीवनी और कार्यों के बारे में पढ़कर अच्छा लगा, मन को सद्प्रेरणा मिली।

    ReplyDelete
  51. महात्मा हंसराज के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा .....पोस्ट कई अर्थपूर्ण बातें समेटे है..... आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए....

    ReplyDelete
  52. मदन जी नमस्ते देर से आने के लिए माफ़ी चाहती हूँ
    आपने महात्मा हंसराज के बारे में बहुत अच्छी जानकारी दी है
    धन्यवाद ..

    ReplyDelete
  53. मदन जी नमस्ते देर से आने के लिए माफ़ी चाहती हूँ
    आपने महात्मा हंसराज के बारे में बहुत अच्छी जानकारी दी है
    धन्यवाद ..

    ReplyDelete
  54. ऐसा लेख प्रस्तुत करने हेतु आपको बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  55. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  56. आपने बेहद उम्दा तरीके से
    अपनी बात रखी. सार्थक लेखन के लिए आप बधाई के पात्र हैं

    ReplyDelete
  57. आपके इस सशक्त लेख के माध्यम से महात्मा हंसराज के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  58. सत्य के ग्रहण करने और असत्य के छोड़नें में सर्वदा उद्यत रहना चाहिए!

    ReplyDelete
  59. ek prerak vyaktitv ke bare me jankari prapt hue.dhanyvad.

    ReplyDelete
  60. प्रासंगिक और प्रेरक .आभार मदन जी .

    ReplyDelete