Monday, May 16, 2011

उठो द्रौपदी उठो

 ( गूगल देवता से साभार )  





सब के साथ प्रीति पूर्वक, धर्मानुसार, यथा योग्य वर्तना चाहिए अर्थात जैसे के साथ तैसा व्यवहार करना चाहिए.
महर्षि दयानंद सरस्वती
उठो द्रौपदी उठो
अब उठो संघर्ष करो, अबला खुद को क्यों मानती हो
यहाँ तो सारे है अंधे बहरे, न्याय कहाँ तुम मांगती हो
पुत्र मोह में अंधा ध्रिष्ट्रराष्ट्र,  अब क्या तुम्हे बचाएगा
वह बूढा महाबली भीष्म ?
ये तो प्रतिज्ञा की आड़ में, जा के कहीं और छुप जाएगा
या टुकड़ों पर पला द्रोण ? इनकी आशा करना व्यर्थ है
अपने भी काम ना आयेंगे, यदि तू स्वयं असमर्थ है
हर बार छला गया तुम्हे द्रौपदी, उठो अब खुद को पहचानो
क्या फर्क पड़ता है नामों से, सीता आहिल्या हो या शाहबानो
तुम सिर्फ इस्तेमाल की वस्तु हो, पुरुषों के अहम् का शिकार
वो लालायित हैं नग्न सौन्दर्य के, किसने कब सुनी तेरी पुकार
जलती रहो तुम तिल तिल कर, कौन सुने तेरा रोदन
आज सभा मदमस्त हुई, उसे चाहिए बस तेरा यौवन
पांसों के इस क्रूर खेल में, शकुनी ने जब भी चौसर बिछाया है
तब- तब युधिष्ठिर ने आगे आकर, तुम्हे ही दावं पर लगाया है
अर्जुन ने है गांडीव उठाया, कौरवों से प्रतिरोध की
भीम के भीतर धधक रही, ज्वाला है प्रतिशोध की
लेकिन क्या ये तुम्हारे लिए है ? ……..
नहीं द्रौपदी नहीं ! ……  मत करना इसका गुमान
नहीं बचाने आएगा आज, कृष्ण भी बनकर भगवान्
रणचंडी बन वार करो, दू:शासन को सबक सिखाने को
मत सोचो अब कोई मसीहा, आयेगा तुम्हे बचाने को
वह क्या कायर निर्लज्ज निशाचर, तुम पे आँख उठाएगा
तुम्हे चुन- चुन मार गिराना होगा, जो तुमसे टकराएगा
तुम कहीं दीप कहीं ज्वाला हो, तुम प्रेमचन्द निराला हो
तुम्ही से भारत का विकास, तुम रत्नजटित एक माला हो
तुम्ही इलेक्ट्रान प्रोटान न्यूट्रान, तुम्हे परमाणु भार हम समझते हैं
तुम्ही आइसोटोप और आइसोबार, तुम्हे ज्वार वार हम समझते हैं
तुम्ही हो शक्ति तुम्ही हो दुर्गा, काली बन कर करो नर्तन
हो जाने दो आज प्रलय तुम,  उठ कर हुंकार करो भीषण
नग्न करने को जो हाथ बढे, उस हाथ को जड़ से उड़ा दो तुम
अबला नहीं तुम दुर्गा हो, अपनी ताकत सबको दिखा दो तुम
आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी ! अब तो होश में आओ तुम
अपने अस्तित्व के  खातिर उठो, समय की गर्त में न खो जाओ तुम

94 comments:

  1. मदन शर्माजी! बहुत बहुत शुक्रिया आपने कितनी मेहनत करके ज्ञानवर्धक सामग्री प्रस्तुत की धन्यवाद्

    ReplyDelete
  2. मदन शर्माजी! बहुत बहुत शुक्रिया आपने कितनी मेहनत करके ज्ञानवर्धक सामग्री प्रस्तुत की धन्यवाद्

    ReplyDelete
  3. आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी !
    अब तो होश में आओ तुम

    ............

    नारी की चली आ रही दशा पर लिखी गयी एक अत्यंत सुन्दर कविता पढने को मिली..
    आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ओजपूर्ण , भाव पूर्ण व प्रेरक उद्बोधन.
    आत्मस्वाभिमान की रक्षा करने के लिए व न्याय के लिए संघर्ष करना ही धर्म है.आत्म स्वावलंबी होकर जीवन जीना प्रत्येक स्त्री को सीखना होगा.
    आपकी अनुपम प्रस्तुति के लिए दिल से आभार.

    ReplyDelete
  5. बेहद सुन्दर भाव पूर्ण

    ReplyDelete
  6. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर .... शक्ति का संचार करता आव्हान ....

    ReplyDelete
  8. बहुत प्रेरक व शानदार प्रस्तुति । बधाईयां...

    ReplyDelete
  9. आदरणीय मदन शर्मा जी
    प्रणाम
    आपके लेख से अच्छी जानकारी मिली और ये दया भाव यूँ ही बना रहे। बहुत अच्छे भाव हैं!

    ReplyDelete
  10. बहुत प्रेरक ओर सुंदर प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  11. ज़बरदस्त ललकार आपकी कविता में देख कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  12. अबला नहीं तुम दुर्गा हो,
    अपनी ताकत सबको दिखा दो तुम
    आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी !
    अब तो होश में आओ तुम

    नारी शक्ति को व्याख्यायित करती सशक्त कविता।

    ReplyDelete
  13. अपने अस्तित्व के खातिर उठो,
    समय की गर्त में न खो जाओ तुम

    बहुत सार्थक कविता है आपकी.

    सादर

    ReplyDelete
  14. सार्थक आवाहन है मदन भैया....
    सादर आभार.....

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुती ! बधाई!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  16. शुभकामनायें ......स्वागत है मेरे ब्लॉग पर !

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. आदरणीय मदन जी नमस्ते! आपने बहुत सुन्दर लिखा है सर !यही आज हम नारिओं की सच्चाई है.
    अपनी दुर्दशा के लिए खुद हम नारियां ही दोषी है.
    आज तो ये हालत है की यदि कोई लड़की शिक्षा के क्षेत्र में
    आगे बढ़ने की कोशिश करती भी है तो उसे हमारी महिलाओं के
    द्वारा ही हतोत्साहित किया जाता है.
    यदि आप अधिक बोलते हैं तो तुरंत पड़ोस की महिलाओं में कानाफूसी शुरू हो जाता है
    और हमसे कहा जाता है की तुम लड़की हो लड़की की तरह रहो

    ReplyDelete
  21. वाह मदन जी क्या ललकार भरी हुंकार भरी है आपने
    आपने तो रग -रग में जोश भर दिया

    ReplyDelete
  22. हम सैनिक वीर दयानंद के दुनिया में धूम मचा देंगे!
    आपने बहुत ही प्रभावित किया है
    आपका आभार .

    ReplyDelete
  23. Madan ji aapne bahut achchi kavita likhi hai.jisko padhkar kisi ko bhi josh aa jaye.kavita vahi hai jo seedhe dil me utar jaaye.naari me chhipi shakti ko pahchanne ke liye bahut aabhar.

    ReplyDelete
  24. achcha lagta hai jab koi purush mahilaon ke utthan ki baat karta hai.har sadi me kuch aap jaise log hue hain jinhone naari marm ko samjha .Aabhar evam shubhkamnayein

    ReplyDelete
  25. द्रोपदी के माध्यम से नारी को जागृत करती ओज पूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  26. "पांसों के इस क्रूर खेल में
    शकुनी ने जब भी चौसर बिछाया है
    तब-तब युधिष्ठिर ने आगे आकर
    तुम्हें ही दांव पर लगाया है "
    ...................................समय की पुकार को बहुत ही सार्थक शब्द मिला है
    ..................................अंतस तक झकझोर देनेवाली ...जागरण सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर आह्वान । स्त्रियों को स्वयं ही रक्षा करनी होगी अपने अस्तित्व की और अपने आत्म सम्मान की , वरना लूटने वाले दानव तो चहुँ ओर तांडव कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुन्दर आह्वान.
    मदन जी ,आप की कलम यूं ही लिखती रहे.
    आभार.

    ReplyDelete
  29. आदरणीय मदन शर्मा जी
    प्रणाम
    आपके लेख से अच्छी जानकारी मिली

    ReplyDelete
  30. आदरणीय मदन शर्मा जी....बहुत ही सुन्दर आह्वान

    ReplyDelete
  31. sir
    sarvpratham aapko hardik dhanyvaad jo aapne mere blog ko padkar aur apna bahumulya samarthan dekar mujhe kritarth kiya hai .bahut bahut dhanyvaad
    maine aapki puri profile padhi .sach aapka likh hua ek ek shabd man me bas gaya aur antim panktio इरादे नेक हों और हौसले बुलन्द हों तो मंजिलें आसान हो जाती हैंne to bahut hi utsaah badhya hai---
    aapki rachna bahut hi sashakt baehad prabhav shali aur preranadayak hai .aapne naari ke astitv aur uske anginat rupon ko bahut hi achhi tarah se mahsus karke likha hai .
    kisi ke bhi antarman ko jhakjhor dene wali is behatreen prastuti ke liye aapki lekhani ko bahut bahut naman
    hardik badhai
    poonam

    ReplyDelete
  32. बिल्कुल सही कहा आपने। आज के समय मेँ द्रौपदी को खुद ही ललकार लगानी पड़ेगी..

    ReplyDelete
  33. बिल्कुल सही कहा आपने। आज के समय मेँ द्रौपदी को खुद ही ललकार लगानी पड़ेगी..

    ReplyDelete
  34. नारी शक्ति के लिए सशक्त आह्वाहन !

    ReplyDelete
  35. आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी !
    अब तो होश में आओ तुम

    ............

    नारी की चली आ रही दशा पर लिखी गयी एक अत्यंत सुन्दर कविता पढने को मिली..
    आभार

    ReplyDelete
  36. तुम्ही इलेक्ट्रान प्रोटान न्यूट्रान, तुम्हे परमाणु भार हम समझते हैं
    तुम्ही आइसोटोप और आइसोबार, तुम्हे ज्वार वार हम समझते हैं
    तुम्ही हो शक्ति तुम्ही हो दुर्गा, काली बन कर करो नर्तन
    हो जाने दो आज प्रलय तुम, उठ कर हुंकार करो भीषण
    Bahut hi sunder aur prernadayak panktiyan!

    ReplyDelete
  37. ओजपूर्ण , भाव पूर्ण... जागरण का सन्देश देती रचना.....

    ReplyDelete
  38. अलख जगाती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  39. नारी को आगे बढ़ाने का एक खुबसूरत प्रयास |
    उत्साहवर्धक रचना |

    ReplyDelete
  40. आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी ! अब तो होश में आओ तुम
    अपने अस्तित्व के खातिर उठो, समय की गर्त में न खो जाओ तुम
    ....bahut saarthak jaagrukta bhari prastuti

    ReplyDelete
  41. आदरणीय मदन जी नमस्कार द्रौपदी से उठने का -जोश से खुद को सम्हालने का और आतताइयों को सबक सिखाने का जो आह्वान आप ने किया वह काबिले तारीफ हैं -बहुत सुन्दर रचना -हर पंक्ति अपने में लाजबाब -निम्न पंक्तियाँ बहुत भायी

    तुम कहीं दीप कहीं ज्वाला हो, तुम प्रेमचन्द निराला हो
    तुम्ही से भारत का विकास, तुम रत्नजटित एक माला हो

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  42. shandar. iske liye tarif ka har shabad chhota hai. mere blog par aakar mera utsah badhane ke liye shukriya.

    ReplyDelete
  43. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  44. बिल्कुल सही कहा आपने। आज के समय मेँ द्रौपदी को खुद ही ललकार लगानी पड़ेगी.

    ReplyDelete
  45. आदरणीय मदन जी नमस्कार
    यही हौसला आगे भी जारी रखिये

    ReplyDelete
  46. सुंदर लेख, जबरदस्त मेहनत,

    ReplyDelete
  47. हर बार छला गया तुम्हे द्रौपदी, उठो अब खुद को पहचानो
    क्या फर्क पड़ता है नामों से, सीता आहिल्या हो या शाहबानो....

    बहुत सच कहा है..बहुत सार्थक सोच..एक एतिहासिक कटु सत्य का बहुत सुन्दर चित्रण..बहुत ओजपूर्ण और प्रेरक रचना..आभार

    ReplyDelete
  48. नहीं द्रौपदी नहीं ! …… मत करना इसका गुमान
    नहीं बचाने आएगा आज, कृष्ण भी बनकर भगवान्
    रणचंडी बन वार करो, दू:शासन को सबक सिखाने को
    मत सोचो अब कोई मसीहा, आयेगा तुम्हे बचाने को
    bahut badhiya ,naari ko vishwaas jagana hai aas nahi lagana hai yahi samjha rahi hai aapki rachna

    ReplyDelete
  49. बहुत प्रेरक व शानदार प्रस्तुति, बधाईयां..

    ReplyDelete
  50. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  51. Bahut hi umda satya kaha jee aapne.... Bahut sundar.... Madan jee aapka sahyog mujhe shakti deta hai.. Dhanywad

    ReplyDelete
  52. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए शुक्रिया!
    आपके नए पोस्ट का इंतज़ार है!

    ReplyDelete
  53. मदन जी, आपकी रचना तो काल-विजयी है . एक-एक शब्द से प्राण प्रवाहित हो रहा है फिर नारी कैसे नहीं जागेगी .आपके आह्वाहन को कोटि-कोटि नमन

    ReplyDelete
  54. बहुत शानदार प्रस्तुति,
    फुर्सत मिले तो 'आदत.. मुस्कुराने की' पर आकर नयी पोस्ट ज़रूर पढ़े .........धन्यवाद |

    ReplyDelete
  55. सशक्त आह्वान

    ReplyDelete
  56. आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी !-sateek bat .sarthak abhivyakti .badhai .

    ReplyDelete
  57. I have given your blog's link on my blog ''ye blog achchha laga ''.My blog's URL is ''http://yeblogachchhalaga.blogspot.com''

    ReplyDelete
  58. अबला नहीं तुम दुर्गा हो, अपनी ताकत सबको दिखा दो तुम
    bahut shaktivan urjamay prastuti.aabhar.

    ReplyDelete
  59. आंसुओं से युद्ध नहीं जीते जाते द्रौपदी ! अब तो होश में आओ तुम
    अपने अस्तित्व के खातिर उठो, समय की गर्त में न खो जाओ तुम.kya baat hai bahut hi achcha likha aapne.main phali baar aapke blog main aai hoon .bahut hi achcha laga.bahut sunder aur saarthak lekh likha aapne aurat ko hamare samaaj main abhi bhi bahut saari samasyaon se jujhnaa padataa hai.maine apni post "äurat hi aurat ki dushman"main naari ke baare main likha hai samay mile to jarur padhiyegaa.itane achche lekh ke liye bahut badhaai aapko.aabhaar

    ReplyDelete
  60. Bahut hi umda satya kaha jee aapne.... Bahut sundar.... Madan jee aapka sahyog mujhe shakti deta hai.. Dhanywad

    ReplyDelete
  61. मदन जी आप वन्दनीय हैं महर्षि दयानंद जी के भी यही विचार नारी के सम्बन्ध में थे और इसी लिए उन्होंने नारी सिक्षा के पक्ष में कट्टर हिन्दुओं से विरोध भी जताया था !

    ReplyDelete
  62. नहीं द्रौपदी नहीं ! …… मत करना इसका गुमान
    नहीं बचाने आएगा आज, कृष्ण भी बनकर भगवान्
    रणचंडी बन वार करो, दू:शासन को सबक सिखाने को
    मत सोचो अब कोई मसीहा, आयेगा तुम्हे बचाने को
    मदन जी, आपकी रचना तो काल-विजयी है . एक-एक शब्द से प्राण प्रवाहित हो रहा है फिर नारी कैसे नहीं जागेगी .आपके आह्वाहन को कोटि-कोटि नमन

    ReplyDelete
  63. अंतस तक झकझोर देनेवाली ...जागरण सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  64. कवितायें तो असंख्य लोग लिखते हैं परन्तु, आप जैसी कृति दुर्लभ है आज के समय में और वह भी हिन्दी ब्लॉग जगत में...

    ReplyDelete
  65. आपकी कविता में व्यापक संदेश निहित है। इसमें जो भावाभिव्यक्ति हुई है उससे सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक तथा राजनैतिक क्षेत्र में व्याप्त विरोधाभास रेखांकित हुए हैं। यह इस रचना की सार्थकता है। पाठक के चिंतन को झकझोरने वाली रचना के लिए साधुवाद!

    ReplyDelete
  66. बहुत प्रेरक व शानदार प्रस्तुति, बधाईयां..

    ReplyDelete
  67. तुम्ही इलेक्ट्रान प्रोटान न्यूट्रान, तुम्हे परमाणु भार हम समझते हैं
    तुम्ही आइसोटोप और आइसोबार, तुम्हे ज्वार वार हम समझते हैं

    एकदम नई approach. क्या बात है.

    ReplyDelete
  68. द्रौपदी कलयुग में और कृष्ण से अपेक्षा.

    कविता में रसायनों का मिश्रण अदभुत लगा. सच्चाई का आइना है ये प्रस्तुति. बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  69. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुती ! बधाई!

    ReplyDelete
  70. टुकड़ों पर पला द्रोण ? इनकी आशा करना व्यर्थ है
    अपने भी काम ना आयेंगे, यदि तू स्वयं असमर्थ है
    हर बार छला गया तुम्हे द्रौपदी, उठो अब खुद को पहचानो
    क्या फर्क पड़ता है नामों से, सीता आहिल्या हो या शाहबानो
    तुम सिर्फ इस्तेमाल की वस्तु हो, पुरुषों के अहम् का शिकार
    वो लालायित हैं नग्न सौन्दर्य के किसने कब सुनी तेरी पुकार
    बेहद संजीदगी भरी रचना है आपकी -- दिल के बहुत करीब लगती है .
    साधुवाद!

    ReplyDelete
  71. काल को परास्त करती रचना ,
    बन रन चंडी पहनो रुण्ड मुंड की माला ,बनो सुनामी ....
    कर दो काय कल्प समय का ,करो सवारी समय की ,
    हो समय पे सवार करो भैरोंजी पे वार .

    ReplyDelete
  72. बहुत सार्थक और सटीक प्रस्तुति..बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  73. बहुत प्रेरक व शानदार प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  74. लाजवाब, सुन्दर लेखनी को आभार...

    ReplyDelete
  75. Madan ji .. bahut sarthak aur bahut sasakt likha hai aapne... aapne mere blog me apne vicharon se hausla diya Aapka aabhaar ..

    ReplyDelete
  76. aapne bahut sarthak likha hai .....

    ReplyDelete
  77. .. जी वाकई बहुत सुंदर, भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  78. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  79. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  80. आपकी सकारात्मक सोच व उसकी इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति ने दिल को छू लिया |एक-एक शब्द से प्राण प्रवाहित हो रहा है फिर नारी कैसे नहीं जागेगी .आपके आह्वाहन को कोटि-कोटि नमन बहुत-बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  81. kafi achhi soch, achhi abhivyakti...
    Nari hi hai poojita...nari hi mein shakti...

    badhayee.

    ReplyDelete
  82. वीरांगनाओं की ज़रूरत है दुनिया को.. महिला समाज को प्रेरित और उत्साहित करती यह कृति सच्चाई को भी बयां करती है...

    ReplyDelete
  83. आदरणीय मदन भ्राता जी अभिवादन -सुन्दर और प्यारी रचना - सुन्दर -अच्छी जानकारी - सुख दायक -जोरदार पुरजोर विरोध ऐसे हो तो मजा आ जाए दुनिया बच जाये
    आभार
    शुक्ल भ्रमर ५

    नग्न करने को जो हाथ बढे, उस हाथ को जड़ से उड़ा दो तुम
    अबला नहीं तुम दुर्गा हो, अपनी ताकत सबको दिखा दो तुम

    ReplyDelete