Monday, March 5, 2012

हे अज्ञान नाशक प्रभु ! मुझमें ऐसी दृढ़ता प्रदान करो कि मै सभी प्राणियों को मित्र के रूप में  देखूं ,सभी प्राणी मुझे  भी मित्र कि दृष्टि से देखें और हम सभी प्राणी आपस में एक दूसरे को मित्र कि दृष्टि से देखें |
यजुर्वेद {३६/१८}

मेरी दृष्टि में होली रंगों का त्यौहार ही नहीं अपितु यह तो आपसी प्रेम का त्यौहार है सारे शिकवे गिले भूल कर एक हो जाने का त्यौहार है। यह  जाति पांति की भावना को भूल कर सबको गले लगाने का त्यौहार है जिसमे विविध रंग मिल कर एक हो जाना चाहते हैं 
वास्तव में देखा जाय तो यह मौज मस्ती का त्यौहार है जिसमे होली का हुडदंग तथा पुआ, पापड़, चिप्स व गुझिया चार चाँद लगा देते हैंअगर साथ में भंग की तरंग भी शामिल हो जाय तो बात ही क्या है ...
होली के त्योहार  की शुरुवात तो वसंत पंचमी से ही हो जाता है। उसी दिन पहली बार गुलाल उड़ाया जाता है। इस दिन से फाग और धमार का गाना प्रारंभ हो जाता है। खेतों में सरसों खिल उठती है। बाग-बगीचों में फूलों की आकर्षक छटा छा जाती है। पेड़-पौधे, पशु-पक्षी और मनुष्य सब उल्लास से परिपूर्ण हो जाते हैं। खेतों में गेहूँ की बालियाँ लहलहाने लगती हैं। किसानों का ह्रदय ख़ुशी से झूम  उठता है।
होली का पर्व हर वर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। सारे देश में यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। पहले दिन शाम को होलिका जलायी जाती है, जिसे होलिका दहन भी कहते है। इसके पश्चात दूसरे दिन जिसे धुलेंडी भी कहते हैं बच्चे-बूढ़े सभी व्यक्ति सारे संकोच और रूढ़ियाँ भूलकर ढोलक-झाँझ-मंजीरों की धुन के साथ नृत्य-संगीत व रंगों में डूब जाते हैं। चारों तरफ़ रंगों की फुहार फूट पड़ती है।
प्राचीन समय में रवि की नयी फसल तैयार होने के उपलक्ष में यज्ञ आयोजित किये जाते थे तथा उसमे गेहूं , चना तथा जौ आदि की बालियों से आहुति दिया जाता था आहुति देने के पश्चात उस भुने हुवे अन्न का प्रशाद के रूप में ग्रहण करने की वैदिक प्रथा के कारण ही इसे होलिकोत्सव कहा गया क्यों की नए जौ, गेहूं, चना आदि अन्न की बालियों को संस्कृत में होला भी कहते हैं तथा माना जाता है की अर्ध भुना होला खाने से आने वाले लू के मौसम में शरीर की बीमारीओं से रक्षा होती है यज्ञ के अंत में होलिका की अग्नि में निकले धुल या भस्म को सम्मान स्वरुप सर पर धारण करने तथा उसे अन्य लोगों पर डालने के कारण ही इसे धुलेंडी भी कहा गया शायद लोग इसी लिए एक दूसरे पर रंग, अबीर-गुलाल इत्यादि फेंकते हैंये परम्परा आज भी चली आ रही है 
आज आवश्यकता है इस आपसी प्रेम की परम्परा में आए दोषों व विकृतियों को त्यागने की होली के महत्व को समझ कर प्राचीन भारतीय संस्कृति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को मजबूत करते हुए होली उत्सव का जम कर आनन्द लें। इस पर्व के बहाने अपने दिल में जमे आपसी कलुषता को दूर करेंआपस में गले मिल कर पुराने गिले शिकवों को दूर करेंहोली के शुभ अवसर पर आप सब को हार्दिक शुभ कामनाएं 

24 comments:

  1. MADAN JI -BAHUT SARTHAK PRASTUTI HAI AAPKI HOLI KE AVSAR PAR .AABHAR V HOLI KI HARDIK SHUBHKAMNAYEN .
    YE HAI MISSION LONDON OLYMPIC

    ReplyDelete
  2. होली का प्रकृति के साथ सुन्दर रिश्ता है, हवाएं बताने लगती हैं कि होली आने वाली है...आपको होली की सपरिवार बधाई....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति की है आपने मदन भाई
    होली के रंगारंग शुभोत्सव पर
    हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. Sparkling colours of HOLI may paint your life in a very colourful way to make you prestigious,honourable and lovable all around.Happy Holi.

    ReplyDelete
  5. होली की बधाइयां आपको भी .

    ReplyDelete
  6. आपका ये सार्थक लेखन अनवरत चलता रहे...
    . होली का पर्व मुबारक हो !

    ReplyDelete
  7. wishing everybody a very happy holi!

    ReplyDelete
  8. होली की हार्दिक शुभकामनायें मदन जी

    ReplyDelete
  9. होली का पर्व मुबारक हो !
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. आपको और आपके समस्त परिवार को होली की मंगल कामनाएं ..

    ReplyDelete
  11. होली के पावन पर्व की आपको हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सपरिवार होली की मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी प्रस्तुति| होली की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  14. बहुत बधाई। होली की ढेर सारी शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  15. आपको सपरिवार होली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. बहूत सुंदर रचना..
    होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  17. होली के रंग में रंगी अच्छी जानकारी
    होली के शुभ अवसर पर आप
    को हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  18. होली के रंग में रंगी अच्छी जानकारी
    होली के शुभ अवसर पर आप
    को हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  19. एक उत्कृष्ट लेख हेतु बधाई ..
    आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. होली का पर्व सद्भावना बढ़ाने के लिए ही है।
    प्रेरक आलेख।

    ReplyDelete
  21. वाह ! अच्छी जानकारी… सार्थक लेखन !

    स्वीकार करें मंगलकामनाएं आगामी होली तक के लिए …
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    ****************************************************
    ♥होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार !♥
    ♥मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !!♥


    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार
    ****************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥

    ReplyDelete
  22. शायद हम इन उत्सवों के जरिये एक दूसरे से जुड़े रहते हैं मदन भैया !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  23. देर से आया- हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete